NGO क्या है? और NGO का फुल फॉर्म  क्या होता है?

हेल्लो दोस्तों आज की इस पोस्ट में हम आपके लिए बहुत ही हेल्पफुल जानकारी लेकर आये है जो आपको काफी ज्यादा पसंद आने वाली है क्योंकि आज हम बात करने वाले हैं कि  NGO क्या है ? NGO क्या होता है ? NGO किस तरह काम करता है ? NGO के क्या क्या उद्देश्य है ? NGO को फंड कहाँ से मिलता है ? तो अगर आप इस टॉपिक के बारे में पूरी जानकारी जानना चाहते है तो इस पोस्ट को लास्ट तक जरुर पढ़ें

NGO क्या है और NGO का फुल फॉर्म 

NGO की फुल फॉर्म Non Government Organization है जिसका हिंदी में अर्थ गैर सरकारी संघठन होता है NGO एक ऐसा organization हैं जो समाज कल्याण के हित के बारें में सोचता है न की अपने फायदे के लिए, जैसे हमारे इंडिया में ऐसे लोग है जो किसी बीमारी से जूझ रहे है, ऐसे लोग जिनके पास कोई रहने की व्यवस्था नहीं है, ऐसे बच्चे जो अनाथ है और इन सभी समस्याओं का हल निकालने के लिए NGO को स्थापित किया गया है

NGO एक ऐसी निजी संस्था है जो गवर्नमेंट के अंडर में नहीं आती है बल्कि यह संस्था उनसे मिलकर बनती है जिनके पास बड़ा बिज़नस है या फिर बड़े बड़े लोग है जिनके पास बहुत सारा पैसा हो वही इस एनजिओ को चलाते है

एनजिओ की जो टीम है वो हर गांव या शहर में जाकर के गरीब लोगो की क्या क्या समस्याएं है क्या क्या उनके दुःख दर्द है यह सबकुछ जानती है और इनकी सहायता भी करती है NGO का सबसे पहले विकास अमेरिका में हुआ था क्योंकि अमेरिका के लोगों का मानना है कि लोगों के लिए पैसा कमाना ही सबकुछ नहीं है बल्कि गरीब लोगो की सहायता करना भी है

आजकल क्या होता है कि वरदावस्था में बूढ़े माँ बाप को घर से बाहर निकाल दिया जाता है या फिर माँ बाप बूढ़े होने पर उनकी कदर नहीं होती है तो फिर वो क्या करते है की वो NGO का सहारा लेते है एनजिओ उन सभी की सहायता करता है जो महिलाएं विधवा है, जिनके पास रहने की कोई सुविधा ना हो, जो अनाथ हो और समाज में अन्य तरह की समस्याए होती है जिनका समाधान निकालता है

NGO किस तरह काम करता है ?

NGO चलाने के लिए आपको एक सदस्य की जरूरत नहीं पड़ती है बल्कि इसमे 7 या इससे अधिक सदस्यों की जरूरत पड़ती है तभी आप एक ऐनजिओ चलाने के लायक हो, हम आपको बताना चाहंगे की जब आप NGO के लिए रजिस्टर करेंगे तो आपको सरकार से आर्थिक सहायता भी मिल जाती है लेकिन जब आप नॉन रजिस्टर्ड करेंगे तो आपको स्वयं ही ऐन जिओ चलाना पड़ेगा

ऐनजिओ में वे सभी काम किये जाते है जो एक समाज कल्याण हेतु किये जाते है जैसे अनाथ बच्चो को पढ़ाना, वृद्जनो की मदद करना. महिलाओं की सुरक्षा करना, विधवाओ के लिए रहने की व्यवस्था करना और कोई व्यक्ति किसी बीमारी से जूझ रहे उसकी मदद करना इत्यादि

हमारे भारत देश में 3.2 मिलियन NGO रजिस्टर्ड है और भारत के सभी NGO सेंट्रल सोसाइटीज एक्ट के अंडर में आते है लेकिन राजस्थान राज्य एक ऐसा राज्य है जो NGO के लिए राजस्थान सोसाइटीज एक्ट के अंडर में आता हैं

NGO के क्या क्या उद्देश्य या क्या काम है ?

1. गरीब परिवार की मदद करना

2. अनाथ बच्चों के लिए रहने, खाने-पीने, पढ़ाने की व्यवस्था करना

3. विधवा महिलाओं के लिए रहने की व्यवस्था करना

4. वृद्जनों की सहायता करना

5. महिलाओं की सुरक्षा करना

6. जल सरंक्षण करना

7. आदिवासियों की सहायता करना

8. किसी पीड़ित व्यक्ति की मदद करना

9. किसी बेसहारा व्यक्ति को सहारा देना आदि

पोपुलर NGO निम्न है –

हमारे इंडिया में कुछ ऐसे पोपुलर NGO है जिन्होंने समाज के लिए अच्छे अच्छे काम भी किये है जैसे

1. Being Human

2. Nanhi kali

3. Give India Foundation

4. Smile Foundation

5. Helpage India

6. Goonj

7. Child Rights and You

8. Sammaan Foundation

9. Sargam Sanstha
etc.

NGO को फंड कहाँ से मिलता है ?

अब आप सोच रहें होंगे की जब NGO समाज कल्याण हेतु कोई काम करता है तो उसका जो खर्चा होता या जो पैसे होते है वो कहाँ से आते है या फिर कौन देता है तो चलिए हम जान लेते है

1. अगर आपने एक NGO स्टार्ट कर रखा है तो आप अपने NGO की वेबसाइट बनाये और उसमे आपके ऐनजिओ के बारें में पूरी जानकारी दें और आप एक डोनेशन अकाउंट भी CREATE कर लें जिससे आपके NGO के बारें में जो भी जानकारी लेगा वह कुछ आर्थिक सहायता भी कर सकता है

2. अगर आपने अपना NGO रजिस्टर कर रखा है तो सरकार से भी आर्थिक सहायता मिल जाती है

3. हमारे देश में जो भी छोटी बड़ी कम्पनियां है उनसे जब आप कांटेक्ट करेंगे तो वो भी आपको आर्थिक सहायता प्रदान करेगी

4. अगर आप अपने NGO में किसी प्रोग्राम में किसी नेता, अभिनेता या फिर किसी बड़े आदमी को INVITE करते है तो आपके NGO में काफी लोग आते है और आपके NGO के बारे जान जाते है जिससे आपका NGO पोपुलर भी हो जाता है

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो, तो आप इसे SHARE जरुर करे. और अगर आपके पास NGO क्या है? और NGO का फुल फॉर्म  क्या होता है? Related कोई  सुझाव हो, तो आप Comment जरुर करे. धन्यवाद |

Leave a Comment

Your email address will not be published.